बिग ब्रेकिंग : घटना ऐसी कि हैवानियत शरमा जाए, बाप और बेटी के सामने 6 युवको ने किया गैंगरेप, किशोरी 4 दिन तक जंगल मे जीवन-मौत से लड़ती रही, बाप और 4 साल की बेटी को भी मार डाला

कोरबा 2 फरवरी 2021। ये सिर्फ बलात्कार नहीं…..ये सिर्फ हत्या नहीं …. हैवानियत की इंतहा है। ….वो रोती रही…गिड़गिड़ाती रही ….मदद की गुहार लगाती रही….लेकिन हवसी दरिंदों ने एक नहीं सुनी। कोरबा के लेमरू में पहाड़ी कोरबा जनजाति  केे युवती के साथ पापियों ने शुक्रवार की जो कुछ किया उसे सुनकर आप भी कांप उठेंगे।  16 साल की किशोरी बाला अपनी 4 साल की मासूम बच्ची और पिता के साथ घर लौटने के दौरान हैवानों के चुंगल में फंस गयी।

पुलिस सूत्रों की मानें तो बाप और मासूम बेटी के सामने ही हैवानों ने पहले तो आदिवासी बिटिया की अस्मत लूटी और फिर लाठी और पत्थर से उसे कुचल दिया। हैवानों के चंगुल में घंटों तड़पती रही किशोरी ने हर दर्द सहकर भी हार नहीं मानी…..मरा जान उसे चट्टानों में दफना दिया, तो भी मौत से लड़ती रही…..लेकिन 96 घंटे तक मौत से संघर्ष करने के बाद आखिरकार आज आदिवासी बाला मौत हो गयी।

दरअसल लेमरू के जंगल में पुलिस को आज लाश मिलने की शिकायत मिली थी। पुलिस सूचना के बाद जब तत्काल मौके पर पहुंची तो वहां एक 55 साल के व्यक्ति की लाश पड़ी मिली। उस व्यक्ति की लाश के ही कुछ दूरी पर चार साल की उसकी नतिनी का भी शव पड़ा था। शव को जब ले जाया जा रहा था, तभी पुलिस को कराहने की भी आवाज सुनायी पड़ी, जिसके बाद पुलिस ने जब आसपास खोजबीन की, तो युवती भी बुरी हालत में मिली। अस्त-व्यस्त हालत और बुरी तरह से जख्मी होने के बाद भी लड़की की सांसे चल रही थी।

पुलिस ने तत्काल उसे जिला अस्पताल में पहुंचाने की तैयारी की, लेकिन रास्ते में ही बच्ची ने दम तोड़ दिया। पुलिस इसे प्रथम दृष्टिया पैसे का लेनदेन का मामला मानकर चल रही थी। लेकिन अब मामला दूसरी दिशा की तरफ बढ़ता दिख रहा है। सूत्रों के मुताबिक लड़की से रेप को लेकर ही पहले उसके पिता और बेटी को मौत के घाट उतारा गया और फिर लड़की से सामूहिक दुष्कर्म के बाद उसे भी जंगल में पत्थरों से दबा दिया गया। पुलिस ने इस मामले में सतरेंगा के संतराम यादव, अब्दुला जब्बार, अनिल सारथी, परदेशी राम, अनंद दास और उमाशंकर यादव को हिरासत में ले लिया है। सभी की उम्र 18 से 20 साल के आसपास बतायी जा रही है। पुलिस सूत्रों के ने तसदीक की है कि युवकों ने घटना में संलिप्तता स्वीकार कर ली है।

पुलिस अभी पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रही है, हालांकि जिस तरह से कोरबा पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए सभी 6 संदेहियों को पकड़ लिया, वो एक काबिले तारीफ है। पुलिस ने एक घंटे के भीतर सारे आरोपियों को पकड़ लिया। पुलिस सूत्रों ने तस्दीक की है, हिरासत में लिए गए आरोपियों ने घटना को अंजाम देना स्वीकार कर लिया है।

Spread the love