बेंगलुरु हिंसा : FB पोस्ट को लेकर हिंसा भड़की…पुलिस फायरिंग में तीन की मौत, 60 पुलिसकर्मी जख्मी…CM येदियुरप्पा की अपील…

बेंगलुरु 12 अगस्त 2020  पूर्वी बेंगलुरु में मंगलवार की रात एक फेसबुक पोस्ट के लेकर हिंसा भड़क गई. माहौल को काबू में करने के लिए पुलिस ने भीड़ पर लाठीचार्ज किया, आंसू गैस के गोले छोड़ और फायरिंग की. बेंगलुरु पुलिस कमिश्नर कमल पंत ने बताया कि पूर्वी बेंगलुरु के डीजे हल्ली इलाके में पुलिस की फायरिंग में तीन लोगों की मौत हो गई है, वहीं 60 पुलिसकर्मी घायल हैं. डीजे हल्ली और केजी हल्ली थाना क्षेत्रों में गुरुवार की सुबह तक कर्फ्यू लगा दिया गया है. वहीं पूरे बेंगलुरु में धारा 144 लागू है. कमिश्नर ने कहा कि फिलहाल हालात काबू में हैं. पुलिस ने इस मामले में कांग्रेस विधायक अखंड श्रीनिवास मूर्ति के आरोपी भतीजे नवीन को गिरफ्तार कर लिया है, वहीं इसके अलावा 110 अन्य लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

बता दें कि पुलाकेशी नगर में मंगलवार रात भीड़ ने थाने और कांग्रेस विधायक (Congress MLA) अखंड श्रीनिवास मूर्ति के आवास में तोड़फोड़ की. यह घटना विधायक के एक कथित संबंधी द्वारा सोशल मीडिया पर सांप्रदायिक मुद्दे से जुड़े एक पोस्ट साझा किए जाने के बाद हुई.

पुलिस कमिश्ननर कमल पंत ने एक ट्वीट में लिखा कि कि डीजे हल्ली में हुई घटना में आरोपी नवीन 110 लोगों को पुलिस पर हमला करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. उन्होंने लोगों से शांति बनाए रखने में पुलिस का सहयोग करने को कहा है. उन्होंने बताया कि भीड़ ने हिंसा में 25 गाड़ियों को आग लगा दी, वहीं पुलिस स्टेशन में रखी 200 बाइकों को भी आग के हवाले कर दिया. हमले में थाना भी क्षतिग्रस्त हुआ है.

मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने ट्वीट कर हिंसा की निंदा की है. सीएम ने लिखा कि उन्होंने दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करने के आदेश दिए हैं, साथ ही सरकार भीड़ के खिलाफ सही एक्शन ले रही है. येदियुरप्पा ने लिखा कि मीडिया, पुलिस और लोगों पर हमला करना ठीक नहीं है, ये बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. लोग शांति बनाकर रखें.

दरअसल, बेंगलुरु के हाली पुलिस स्टेशन इलाके में कांग्रेस विधायक के करीबी द्वारा एक फेसबुक पोस्ट लिखा गया. इस पर कुछ लोगों को आपत्ति हुई और वो इसकी शिकायत दर्ज कराने पुलिस स्टेशन में पहुंचे. लेकिन, पुलिस ने आपसी तरीके से मामला सुलझाने के लिए कह दिया.

इसी के बाद कई लोगों की भीड़ पुलिस स्टेशन के बाहर इकट्ठा हो गई और नारेबाजी करने लगी. देखते-देखते ही बवाल हो गया और पत्थरबाजी शुरू हो गई. इसके बाद बेकाबू भीड़ ने पुलिस स्टेशन, विधायक को घर को अपना निशाना बनाया. वहां तोड़फोड़ की, आगजनी की और पुलिस के दर्जनों वाहन को भी फूंक दिया.

Spread the love