लाॅकडाउन से पहले सब्जियों के रेट आसमान छूने लगे, आवश्यक वस्तुओं के रेट पर लगाम लगाने पाण्डेय ने की मुख्यमंत्री से अपील

रायपुर, 20 सितंबर 2020। छत्तीसगढ़ के कई जिलों में 22 सितंबर से लाॅकडाउन होने जा रहा है। इसको देखते सब्जियों समेत रोजमर्रा की चीजों को खरीदने बाजार में आज भीड़ उमड़ पड़ी। मौके का फायदा उठाने सब्जियों के रेट अनाप-शनाप बढ़ा दिए गए हैं तो यही हाल किराना समेत अन्य आवश्यक वस्तुओं का भी है। समाजसेवी प्रकाशपुन्ज पाण्डेय ने कहा है कि बाजार में फल सब्जियों के दामों में आग लगी हुई है। सरकार को बड़ी ही गंभीरता से सोचना होगा कि जहाँ एक ओर देश में नोटबंदी के बाद अर्थव्यवस्था की रफ्तार धीमी पड़ गई है वहीं दूसरी ओर कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण हुए देशव्यापी लॉकडाउन के कारण रही सही कमी पूरी हो गई। अगर बात करें महंगाई की तो जहां एक ओर आम लोगों के आय के साधन में कमी आई है, लोगों की जेब में पैसे कम बचने लगे, वहीं दूसरी ओर महंगाई मुंह बाए खड़ी है।

पाण्डेय ने कहा कि छत्तीसगढ़ में लॉकडाउन के शुरुआती दौर में कोरोना के आंकड़े कम थे, वहीं आज यह आंकड़े लगभग एक लाख के आसपास पहुंच रहे हैं और सरकार की लाख सकारात्मक कोशिशों के बाद भी इस पर काबू नहीं पाया जा रहा है, जिसके फलस्वरूप सरकार को बार-बार अलग-अलग जिलों में लॉकडाउन लगाने की जरूरत पड़ रही है। यही नहीं अब जो लॉकडाउन लग रहा है वह संपूर्ण रूप से लग रहा है। ठीक है कि सरकार कोरोना के मामले को लेकर गंभीर दिखाई पड़ती है लेकिन लॉकडाउन ही इसका इलाज नहीं है। क्योंकि लॉकडाउन के कारण जनता में अफरा-तफरी का माहौल हो जाता है और घर में भंडारण के हेतु लोग एक साथ सामान खरीदने की फिराक में रहते हैं और इन सभी कारणों के कारण महंगाई और बढ़ती जा रही है। जैसा कि सबको पता है कि फल और सब्जी रोज़मर्रा की जरूरत है और इसके बिना कोई भी व्यक्ति रह नहीं सकता, लेकिन कुछ लोग कालाबाजारी करने की फिराक में रहते हैं और इस कारण बाजार में फल सब्जियों के भाव बहुत ज्यादा बढ़ गए हैं।

आज के सब्जियों के दाम –

आलू – 50 ₹ प्रति केजी, प्याज़ – 45 ₹ प्रति केजी, टमाटर – 60 ₹ प्रति केजी, हरी मिर्च – 120 ₹ प्रति केजी, तरोई – 60 ₹ प्रति केजी, लहसुन – 160 ₹ प्रति केजी, बैगन – 60 ₹ प्रति केजी, कद्दू – 30 ₹ प्रति केजी, लौकी – 70 ₹ प्रति केजी, फूल गोभी – 80 ₹ प्रति केजी, पत्तागोभी – 80 ₹ प्रति केजी, अदरक – 80 ₹ प्रति केजी, नींबू – 3₹ प्रित नग, गाजर – 40 ₹ प्रति केजी, करेला – ₹ 80 प्रति केजी, लाल भाजी – 80 ₹ प्रति केजी आदि।

पाण्डेय ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से यह अपील की है कि इस महंगाई के दौर में जहां आय के साधनों में कमी आई है लेकिन हर परिवार और हर व्यक्ति के खर्चे बढ़ते जा रहे हैं, सरकार को चाहिए कि कम से कम अनाज, फल और सब्जियों के दामों पर रोक लगाए ताकि ग़रीब और साधारण व्यक्ति दो वक्त की रोटी खा पाए। आज सब्जियों के दाम आसमान छू रहे हैं अब यह कैसे मुमकिन है कि एक आम आदमी दो वक्त की सब्ज़ी खा पाए। यह बहुत ही गंभीर समस्या है। सरकार को इस पर संवेदनशीलता से विचार करना चाहिए क्योंकि लॉकडाउन सरकार ने लगाया है जनता ने नहीं। अगर सरकार जनता के हित में लॉकडाउन लगा रही है, तो सरकार को बाजार में बिकने वाली रोज़मर्रा की वस्तुएं जैसे दूध, फल, सब्जी और अनाज के मूल्यों की वृद्धि पर ही अंकुश लगाने की अत्यधिक आवश्यकता है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.