अर्नब गोस्वामी को जूते से मारा गया…..अर्नब ने कहा- सुबह मेरे साथ मारपीट की गई, मेरी जान को खतरा है; तलोजा जेल किया जा रहा है शिफ्ट

मुंबई 8 नवंबर 2020।रिपब्लिक भारत के एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामीने मारपीट किए जाने और अपनी जान को खतरे में होने को लेकर चौंकाने वाले खुलासे किए, जिस वक्त उन्हें चार दिनों की न्यायिक हिरासत में रखने के बाद रविवार को अलीबाग के क्वारंटीन सेंटर से तलोजा जेल ले जाया जा रहा था।बता दें, पूरी तरह से कवर पुलिस वैन में अर्नब गोस्वामी को अलीबाग के क्वारंटीन सेंटर से तलोजा जेल ले जाया जा रहा है।

रिपब्लिक टीवी के एडिटर अर्नब गोस्वामी ने  अर्नब की तरफ से कोर्ट में सप्लीमेंट्री एप्लीकेशन दायर की गई है. इसमें अर्नब ने दावा किया है कि पुलिस ने उन्हें जूते से मारा. पानी तक नहीं पीने दिया. अर्नब ने अपने हाथ में 6 इंच गहरा घाव होने, रीढ़ की हड्डी और नस में चोट होने का दावा भी किया है. उनका कहना है कि पुलिस ने गिरफ्तारी के वक्त जूते पहनने तक का समय नहीं दिया.उन्होंने कहा कि मुझे वकील से नहीं मिलने दिया, सुबह धक्का दिया और मारपीट की, मुझे सुबह 6 बजे उठाया। मुझसे कहा कि वकील से बात नहीं करने देंगे, देशवासियों को बता दो कि मेरी जान को खतरा है।

अर्नब ने आगे कहा कि मेरी जान खतरे में है। कोर्ट से कहो मेरी मदद करें, जब मैं वकील से बात करना चाहता था जेलर ने मेरे साथ मारपीट की। जब मैं वकील से बात करना चाहता था मुझे मारा गया। आपको बता दें की, बुधवार की सुबह अर्नब गोस्वामी को रायगढ़ पुलिस ने गिरफ्तार किया था. अर्नब की यह गिरफ्तारी एक इंटीरियर डिज़ाइनर और उनकी मां की आत्महत्या के मामले में हुई है. अर्नब पर कथित तौर पर आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप लगा है. अर्नब को अलीबाग की मेजिस्ट्रेट कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा है. फ़िलहाल कोविड को देखते हुए नए कैदियों को जेल की बजाये 14 दिन के लिए क्वारंटाइन सेंटर में रखा जाता है. अर्नब पिछले 3 दिन अलीबाग के एक स्कूल में है जिसे कोविड सेंटर बनाया गया है.

Spread the love