‘लेडी’ IPS अफसर पर लगे गोली चलवाने के आरोप… कार्यशैली पर भी उठे सवाल, पिता है राज्यसभा सांसद और मुख्यमंत्री के करीबी… जानिए क्या है पूरा मामला

पटना 27 अक्टूबर 2020। बिहार में विधानसभा चुनाव को लेकर सियासी घमासान जोरों पर है। इस बीच मुंगेर में प्रतिमा विसर्जन के दौरान पुलिस की फायरिंग में एक शख्स की मौत को लेकर बवाल बढ़ता जा रहा है। इस मामले में जहां पुलिस की कार्रवाई को लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं।  लोग सड़क पर प्रदर्शन कर रहे हैं। वहीं इस बीच अब एक वीडियो सामने आया है। जिसमें लोग आईपीएस लिपि सिंह के इशारे पर गोलियां चलवाने के आरोप लगा रहे हैं।

इस घटना से संबंधित एक वीडियो भी सामने आया है। जिसमें एक व्यक्ति मामले के संबंध में बता रहा है कि पुलिस वालों ने घटना की जानकारी किसी मैडम को दी। शख्स ने कहा कि वो शायद पुलिस कप्तान होगी। उन्होंने आगे कहा कि फिर उस तरफ से पुलिस कर्मियों को दंडात्मक कार्रवाई को आगे बढ़ाने का निर्देश मिला और फिर पुलिस ने हवाई फायरिंग की। जिसके बाद एक व्यक्ति की मौत हो गई।

क्या है मामला
विधानसभा चुनाव को देखते हुए प्रशासन ने 26 अक्तूबर की शाम तक मूर्ति विसर्जन का आदेश दिया था। पुलिस ने बताया कि मुंगेर में पंडित दीन दयाल चौक के पास शंकरपुर के मूर्ति विसर्जन के लिए प्रशासन ने आदेश दिया था। इसे लेकर पुलिस और स्थानीय लोगों में कहासुनी हो गई। इतने में किसी ने फायरिंग कर दी।

पुलिस के मुताबिक गोली लगने से 18 वर्षीय अनुराग कुमार ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। फायरिंग में पांच अन्य लोग भी घायल हुए, जिन्हें इलाज के लिए मुंगेर के सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया।

वहीं स्थानीय लोगों का आरोप है कि पुलिस की फायरिंग में युवक की मौत हुई है। घटना के बाद किसी अनहोनी की आशंका को देखते हुए दीन दयाल चौक और आसपास के इलाके को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया है।

मुंगेर के डीएम राजेश मीणा ने कहा कि दुर्गा पूजा के विसर्जन के समय कुछ शरारती तत्वों के द्वारा रोड़े बाजी की घटना हुई। इसके साथ ही पुलिस पर गोली चलाई गई। जिसकी वजह से कई पुलिसकर्मी घायल हुए हैं और एक व्यक्ति की मौत हो गई।

इस घटना से संबंधित एक वीडियो भी सामने आया है। जिसमें एक व्यक्ति मामले के संबंध में बता रहा है कि पुलिस वालों ने घटना की जानकारी किसी मैडम को दी। शख्स ने कहा कि वो शायद वो पुलिस कप्तान होगी। उन्होंने आगे कहा कि फिर उस तरफ से पुलिस कर्मियों को दंडात्मक कार्रवाई को आगे बढ़ाने का निर्देश मिला और फिर पुलिस ने हवाई फायरिंग की। जिसके बाद एक व्यक्ति की मौत हो गई।  यह वीडियो राजद नेता अपूर्व यादव के द्वारा साझा की गई है। अमर उजाला इस वीडियो की सच्चाई की पुष्टि नहीं करता है।

बता दें लिपि सिंह के पिता आरसीपी सिंह राज्यसभा सांसद और सीएम नीतीश कुमार के बेहद करीबी लोगों में से एक हैं। मुंगेर में पहले चरण में चुनाव है और ऐसे में यह घटना पुलिस की नाकामियों की पोल खोल रहा है।

लिपि सिंह 2016 बैच की आईपीएस अधिकारी हैं। साथ ही वह JDU यानी जनता दल (यूनाइडेट) के राज्यसभा सांसद आरपी सिंह की बेटी हैं। 2019 में लिपि सिंह पटना के बाढ़ इलाके की एडिशनल एसपी थीं। आम चुनाव के दौरान, अनंत सिंह की पत्नी नीलम देवी ने चुनाव आयोग में शिकायत की थी कि लिपि अनंत सिंह के करीबियों को जानबूझ कर परेशान कर रहीं हैं। नीलम देवी की शिकायत पर चुनाव आयोग के आदेश के बाद लिपि सिंह का ट्रांसफर ATS यानी एंटी टेरेरिज़म स्क्वॉड (आतंक विरोधी दस्ते) में कर दिया गया था। लेकिन चुनाव के बाद इन्हें एक बार फिर बाढ़ एडिशनल एसपी नियुक्त कर दिया गया था। लिपि सिंह फिलहाल मुंगेर जिले की एसपी हैं। नक्सल प्रभावित इस जिले में वह अपनी कार्यशैली के लिए चर्चित हो रही हैं।

 

Spread the love