npg

पंजाब के बाद अब इस राज्य का नंबर? ओएसडी के इस्तीफे के बाद सियासी हलचल तेज, कभी भी हो सकती है विधायक दल की बैठक का ऐलान

जयपुर, 19 सितंबर 2021। पंजाब में कई महीने से जारी कांग्रेस की आपसी खींचतान कल मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के इस्तीफे के साथ खत्म हो गई। लेकिन अभी कांग्रेस के भीतर उठा तूफान थमा नहीं है। अब पंजाब में सियासी भूचाल के बाद राजस्थान में भी सुगबुगाहट दिख रही है। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के […]

Spread the love

पंजाब के बाद अब इस राज्य का नंबर? ओएसडी के इस्तीफे के बाद सियासी हलचल तेज, कभी भी हो सकती है विधायक दल की बैठक का ऐलान
X

जयपुर, 19 सितंबर 2021। पंजाब में कई महीने से जारी कांग्रेस की आपसी खींचतान कल मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के इस्तीफे के साथ खत्म हो गई। लेकिन अभी कांग्रेस के भीतर उठा तूफान थमा नहीं है। अब पंजाब में सियासी भूचाल के बाद राजस्थान में भी सुगबुगाहट दिख रही है। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के ओएसडी लोकेश शर्मा ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। आधी रात करीब 12:30 बजे लकेश शर्मा ने अपना इस्तीफा सीएम गहलोत को भेजा। लोकेश शर्मा ने इस्तीफे का कारण खुद के एक ट्वीट को बताया है। दरअसल, ट्विटर पर उन्होंने लिखा था कि ‘मजबूत को मजबूर, मामूली को मगरूर किया जाए। बाड़ ही खेत को खाए, उस फसल को कौन बचाए..’ लोकेश शर्मा का कहना है कि उनके ट्वीट को राजनीतक रंग दिया जा रहा है। इसे पंजाब की सियासत से जोड़ा जा रहा है, यह गलत है। इसलिए वे अपना इस्तीफा दे रहे हैं। लोकेश शर्मा ने अपने इस्तीफे में लिखा है कि मैं 2010 से ट्विटर पर सक्रिय हूं। आज तक पार्टी लाइन से अलग कोई भी ऐसे शब्द नहीं लिखे जिन्हें गलत कहा जा सके। मैंने अपनी मर्यादाओं का ध्यान रखते हुए कोई भी राजनैतिक ट्वीट नहीं किया है। फिर भी आपको लगता है मेरे द्वारा जान-बूझकर कोई गलती की गई है तो मैं इस्तीफा भेज रहा हूं, निर्णय आपको करना है। यह किसी से छिपा नहीं है कि पंजाब की तरह राजस्थान कांग्रेस में भी सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। 2018 विधानसभा चुनाव के बाद से सीएम अशोक गहलोत व सचिन पायलट के बीच तल्खी बढ़ती चली गई है। कई बार इसे सार्वजनिक तौर पर भी देखा गया है।

Next Story