DEO से ABEO की बदतमीजी, हुआ सस्पेंड…. इंस्पेक्शन के लिए पहुंची महिला DEO को कहा… कहां-कहां से चली आती है ऐसी अधिकारी…. मैं नहीं जानता DEO को

धमतरी 2 फरवरी 2021। “…कहां-कहां से चले आते हैं ऐसे DEO इंस्पेक्शन करने….मैं किसी DEO को नहीं मानता….” जिला शिक्षा अधिकारी से बदतमीजी करने वाले ABEO की  छुट्टी हो गयी है। मामला धमतरी के BEO दफ्तर का है। दरअसल जिला शिक्षा अधिकारी रजनी नेल्सन इंस्पेक्शन के लिए धमतरी BEO के दफ्तर पहुंची थी। सुबह दस बजे दफ्तर खुलने का वक्त होता है, लेकिन अधिकारी तो छोड़िये, चपरासी तक नदारद थे, BEO कार्यालय में ताला लटका था।

काफी देर बाद जब अधिकारी दफ्तर पहुंचे भी तो DEO को गोलमोल जवाब देकर बरगलाने की कोशिश करने लगे। इसी दौरान ABEO संजीव कश्यप ने लेडी DEO के साथ दुर्व्यवहार करना शुरू कर दिया। संजीव कश्यप ने तो डीईओ रजनी को यहां तक कह दिया वो किसी भी डीईओ को नहीं जानते, ना जाने कहां कहां से चले आते हैं ऐसे अधिकारी। DEO की रिपोर्ट पर कलेक्टर जेपी मौर्य ने तत्काल प्रभाव से ABEO को सस्पेंड कर दिया है।

ये है पूरा मामला … 

सोमवार की सुबह 10:00 बजे जिला शिक्षा अधिकारी रजनी नेल्सन निरीक्षण अपने सहयोगी निरीक्षण दल के साथ बीईओ कार्यालय धमतरी का निरीक्षण करने पहुंची थी ।10 बजे जब अधिकारी पहुंचे तो मुख्य गेट पर ताला लगा हुआ था। काफी इंतजार के बाद दफ्तर खुला तो दफ्तर में लापरवाही का अंबार था। ना दस्तावेज सहेजकर रखे गये थे और ना ही रिकार्ड ही मौजूद थे। लापरवाही ऐसी थी कि कभी भी चोरी की वारदात हो सकती थी।

ABEO ने की अफसर से बदतमीजी

दफ्तर में DEO को कोई भी अधिकारी-कर्मचारी वक्त पर नहीं मिला। लेखापाल ,सहायक ग्रेड 2सी पी नेताम 10:35 पर पहुंचे।शेष अधिकारी कर्मचारी 10:45 के बाद उपस्थित हो गए। उस समय तक बीईओ डीआर गजेंद्र एवं एबीईओ संजीव कश्यप समय पर उपस्थित नहीं थे। ABEO संजीव कश्यप दोपहर 12:00 बजे के बाद यह कहते हुए उपस्थित हुए कि वे BEO के निर्देश पर तेलीनसत्ती जा रहे थे। किंतु बीच रास्ते में लौट कर आने का कारण नहीं बताया।जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा संजीव कश्यप को आबंटित कार्य के संबंध में जानकारी मांगी गई कोई भी जानकारी प्रस्तुत नहीं किए । इसी दौरान डीआर गजेंद्र भी कार्यालय में उपस्थित हुए ।

उनके सामने संजीव कश्यप द्वारा यह कहा गया कि कहां-कहां से ऐसे प्रभारी जिला शिक्षा अधिकारी आ जाते हैं ऐसा कहते हुए आवश्यक रूप से वाद-विवाद व बहस करने लगे, कहां से कार्यालय का निरीक्षण अधिकारी लेकर आ जाते हैं। इनका यह भी था कि मैं जिला शिक्षा अधिकारी को नहीं मानता ऐसे शब्दों का भी प्रयोग किया गया….निरीक्षण दल में सहायक संचालक डॉ आर एन मिश्रा ,वरिष्ठ लेखा परीक्षक आर के देवांगन और सहायक ग्रेड 3 उपेंद्र साहू भी मौजूद थे… कलेक्टर आदेश में कहा है कि जिला शिक्षा अधिकारी के साथ अमर्यादित अभद्रता पूर्वक वाद-विवाद बहस करना छत्तीसगढ़ सिविल सेवा आचरण नियम 1965 के नियम 3 में प्रावधान इस नियमों के प्रतिकूल है इसलिए संजीव कश्यप एबीईओ धमतरी को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर निलंबित अवधि में इनका मुख्यालय विकास खंड शिक्षा अधिकारी नियत की जाती है। पात्रता अनुसार जीवन निर्वाह भत्ता मिलेगा….

Spread the love