कलिंगा विश्वविद्यालय में नये छात्रों का आत्मीय स्वागत,  ‘‘फस्र्ट स्टेप -2020‘‘ का ऑनलाइन आयोजन

रायपुर 28 सितम्बर 2020. कलिंगा विश्वविद्यालय के ‘कला एवं मानविकी संकाय‘ के नए शैक्षणिक सत्र में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों के स्वागत के इंडक्शन कार्यक्रम ‘‘फस्र्ट स्टेप – 2020‘‘ का आॅनलाईन आयोजन संपन्न हुआ। इस कार्यक्रम के दौरान नए विद्यार्थियों को विश्वविद्यालय की शैक्षणिक गतिविधि, उपलब्ध सुविधाओं एवं उपलब्धियों की जानकारी प्रदान की गयी। इस आयोजन में नए विद्यार्थियों के स्वागत के साथ-साथ विभिन्न मनोरंजक प्रतियोगिता, क्वीज प्रतियोगिता, गीत नृत्य एवं सांस्कृतिक एवं रचनात्मक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया।

विदित हो कि ‘‘कोरोना महामारी‘‘ प्रकोप के कारण शासन के निर्देशानुसार विश्वविद्यालय में पढ़ाई के साथ-साथ सभी कार्यक्रम आॅनलाईन किए जा रहे है। इसीलिए नए विद्यार्थियों के लिए स्वागत का कार्यक्रम ‘‘फस्र्ट स्टेप – 2020‘‘ का आॅनलाईन आयोजन संपन्न हुआ। जिसमें पहले दिन बी.ए., एम.ए.,बी.जे.एम.सी.,एम.जे.एम.सी.,बी.एस.डब्लू और एम.एस.डब्लू पाठ्यक्रम में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों का स्वागत किया गया।

‘‘फस्र्ट स्टेप – 2020‘‘ के आॅनलाईन आयोजन के प्रथम चरण में कलिंगा विश्वविद्यालय के कुलपति डाँ. आर श्रीधर, महानिर्देशक डाँ. बैजू जाॅन, कुलसचिव डाँ संदीप गांधी, छात्र कल्याण अधिष्ठाता डाँ. आशा अंभईकर और अकादमिक मामले के प्रमुख राहुल मिश्रा की उपस्थिति में ज्ञान और विद्या की देवी माँ सरस्वती वंदना करने के पश्चात कार्यक्रम का शुभारंभ हुआ।

कलिंगा विश्वविद्यालय के कुलपति डाँ. आर. श्रीधर ने नए विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि-‘‘ आज विद्यार्थी का जीवन कड़ी प्रतिस्पर्धा का है। आज नवीनतम ज्ञान प्राप्त करने का समय है। हमें अंतर्राष्ट्रीय मानक के अनुसार अपने को तैयार करना है। आत्मविश्वास के साथ सही दिशा का चयन करके हम प्रत्येक क्षेत्र में सफलता हासिल कर सकते है। उन्होंने बताया कि कलिंगा विश्वविद्यालय का उद्देश्य व्यावहारिक ज्ञान के साथ-साथ अनुसंधानपरक एवं मूल्य आधारित गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करना है। जिससे विद्यार्थी अपने सर्वोत्कृष्ट लक्ष्य को प्राप्त करे और एक जिम्मेदार नागरिक बनकर देश और समाज में अपनी बहुमूल्य भूमिका निभा सके।

कला एवं मानविकी विभाग के डाँ. एम.एस.मिश्रा ने वर्तमान समय में कला एवं मानविकी संकाय के अंतर्गत विभिन्न उपयोगिता पर से प्रकाश डालते हुए कहा कि- ‘‘आज विद्यार्थियों को पाठ्यक्रम आधारित पारंपरिक शिक्षा और व्यावहारिक ज्ञान के साथ-साथ अनूसंधानपरक ज्ञान प्राप्त करना बहुत आवश्यक है कलिंगा विश्वविद्यालय अपने विद्यार्थियों में सीखने की प्रवृत्ति विकसित करता है। और विद्वान प्राध्यापकों के मार्गदर्शन में उन्हें सर्वोत्तम ज्ञान देने पर जोर देता है। जिससे शिक्षा के उपरांत वह अपने उज्जवल भविष्य का निर्माण कर सकें।

स्वागत समारोह के अगले चरण में विश्वविद्यालय के प्राध्यापक डाँ. प्रतीक जगताप ने पावर प्वाइंट के मनमोहक प्रस्तुति के माध्यम से नए विद्यार्थियों को कलिंगा विश्वविद्यालय में उपलब्ध सुविधाओं के साथ-साथ यहाँ के प्रशासनिक और अकादमिक अधिकारियों का परिचय दिया एवं विश्वविद्यालय के मिशन, विजन, और रोडमैप के बारे में विस्तार से बतलाया। दिन भर चले इस कार्यक्रम को विभिन्न सत्रों में बांटा गया था। जिसमें संबंधित विभाग के प्राध्यापकों का परिचय, अकादमिक मामले के प्रमुख अधिकारी राहुल मिश्रा का सत्र, उपकुलसचिव कुमार श्वेताभ का सत्र प्रमुख था । जिसमें विश्वविद्यालय की कार्यप्रणाली से विद्यार्थियों को अवगत कराया गया।

मुख्य अतिथि के रूप में यंग इंडिया से अनूजा शुक्ला, शशांक नथानी, प्रतीक शुक्ला और अभिनव खंडेलवाल उपस्थित थे। उन्होेने विद्यार्थियों के लिए प्रेरक उद्बोधन दिया। इसके पश्चात विद्यार्थियों के मनोरंजन और ज्ञानवर्धक के लिए आॅनलाईन क्वीज प्रतियोगिता, स्लोगन प्रतियोगिता, प्रेरणादायक वीडियों की प्रस्तुति, गायन एवं नृत्य प्रतियोगिता, टंग ट्विस्टर, हौजी जैसे अनेक मनोरंजक कार्यक्रम, संपन्न हुए। कार्यक्रम, के बीच में विश्वविद्यालय समन्वयक गौसिया खातुन, पुस्तकालय अध्यक्ष डाॅ.वाय मीराबाई, क्रीड़ा अधिकारी संजीव यादव, एन.एस.एस. अधिकारी स्मिता प्रेमानंद और यूथ इंडिया प्रभारी अविनाश कौर का सत्र भी संचालित हुआ।

कार्यक्रम का कुशल संचालन अविनाश कौर एवं कपिल केलकर ने किया, जिनका सहयोग डाॅ. विनीता दीवान और हिमांशु झाड़े ने किया। कार्यक्रम की समाप्ति की घोषणा और अतिथियों के लिए आभार प्रदर्शन छात्र कल्याण अधिष्ठाता डाँ. आशा अंभईकर ने किया।

उक्त स्वागत समारोह के कार्यक्रम में कला एवं मानविकी संकाय के डाॅ. अजय शुक्ल, डाॅ. शिल्पी भट्टाचार्य, डाॅ. अनिता सामल, डाॅ. राजशेखर, डाॅ. जाय चैधरी, डाॅ. नम्रता श्रीवास्तव डाॅ. विनीता दीवान, विजय भूषण, ए.के.कौल, विजय आनंद, स्वरूपा पंडित, मुकेश रावत, खुशबू सिंह, अरूणिमा, चंदन राजपूत, मेरिटा के साथ-साथ विश्वविद्यालय के समस्त विभागाध्यक्ष, प्राध्यापक, अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थें।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.