ACS अमिताभ जैन की अध्यक्षता में गोबर के भुगतान और मानिटरिंग के लिए सचिवों की चार सदस्यीय कमेटी गठित, चारों रोज कलेक्टरों से बात कर रिपोर्ट लेंगे…..

चीफ सिकरेट्री आरपी मंडल ने अफसरों को चेताया, 15 दिन में गोबर का भुगतान नहीं हुआ तो खैर नहीं

NPG.NEWS
रायपुर, 26 जुलाई 2020। गोधन न्याय योजना में गोबर बिक्री और उसके पेमेंट पर निगरानी रखने के लिए चीफ सिकरेट्री आरपी मंडल ने एडिशनल चीफ सिकरेट्री फायनेंस अमिताभ जैन की अध्यक्षता में सचिवों की चार सदस्यीय कमेटी गठित कर दी है। इनमें अमिताभ के अलावा प्रिंसिपल सिकरेट्री पंचायत गौरव द्विवेदी, एपीसी एवं सिकरेट्री एग्रीकल्चर एम गीता और सिकरेट्री सहकारिता प्रसन्ना आर शामिल हैं।

ये चारों अधिकारी रोज कलेक्टर जिले से कान्टेक्ट करके कितने लोगों का भुगतान करना है, कितनी राशि भुगतान करनी है इस सबकी मानिटरिंग करेंगे और किसी भी कीमत पर 15वे दिन भुगतान हितग्राही के खाते में जायेगा, यह सुनिश्चित करेंगे। मुख्य सचिव ने जोर देकर के कहा कि जिस तरह से सिस्टम बना है जिसमें तेन्दूपत्ता के हितग्राहियों के खाते में सीधा भुगतान होता है, धान खरीदी के समय हितग्राहियों के खाते में सीधा भुगतान होता है, ठीक उसी तर्ज पर सीधा पैसा गोबर के हितग्राहियों के खाते पहुंचना सुनिश्चित करें।

मुख्य सचिव ने साफ कहा कि गोठान समिति पूरे एक्टिवेट हो और उसके अलावा वहां के स्थानीय लोगों को इस कार्य के लिए नोडल बनाया जावे। और गोबर हितग्राही का खाता यदि नहीं खुला है तो खाता खुलवाने की कार्यवाही करें और किसी भी किमत पर नगद भुगतान नहीं होगा उनके खाते में भुगतान सीधा जायेगा इस हेतु बैठक में उपस्थित समस्त अधिकारियों एवं बैंकर्स को समुचित निर्देश दिये। मुख्य सचिव ने सचेत किया कि किसी भी प्रकार की कोताही बर्दाश्त नहीं की जावेगी। मुख्यमंत्री की मंशानुरूप सीधे खाते में ट्रांसफर करने, गोबर खरीदी की 15 दिन के भीतर भुगतान तथा पहला भुगतान 5 तारीख तक करने के निर्देश दिए गए।

सीएस ने कहा कि जिस तरह से तेन्दूपत्ता हितग्राहियों का खातो में भुगतान होता है, जिस तरह धान खरीदी में हितग्राहियों के खातों में भुगतान होता है उसी तर्ज पर गोबर खरीदी का भुगतान हितग्राहियों के खातों में सीधा किया जावे।

Spread the love

Get real time updates directly on you device, subscribe now.