comscore

21 जवान लापता: बिग ब्रेकिंग: बीजापुर मुठभेड़ में 21 जवान लापता…..नक्सल हादसे का शिकार होने की आशंका…..15 घंटे बाद ग्राउंड जीरो पर नहीं पहुंच पाई पुलिस पार्टी….प्रधानमंत्री मोदी व गृहमंत्री शाह के ट्वीट के बाद आशंका गहराई….UAV के साथ बैकअप फ़ोर्स बढ़ रही मौके पर…रात भर PHQ में जागते रहे अफसर

8 DRG, 6 STF और 7 CRPF के कोबरा जवान लापता

बीजापुर 4 अप्रैल 2021। बीजापुर नक्सल हमले में 21 जवान लापता हैं। मुठभेड़ के करीब 15 घंटे बाद भी जवानों तक पुलिस पार्टी नहीं पहुंच सकी है। मुठभेड़ के इतने घंटे बाद भी जवानों से संपर्क ना हो पाना आशंकाओं की तरफ इशारा कर रहा है। आशंका हैै कि सभी लापता जवान नक्सल हादसे का शिकार हो गये है। हालांकि पुलिस की तरफ से आधिकारिक रुप से कुछ नहीं कहा जा रहा है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक 21 जवान अब तक लापता हैं। आशंका है कि ये सभी नक्सल हादसे का शिकार हो गए हैं। हालांकि सुबह 6 बजे से ही पुलिस पार्टी मौके के लिए रवाना हो चुकी है। जवानों के साथ साथ UAV भी चल रही है, ताकि नक्सलियों की मौजूदगी पर अलर्ट हुआ जा सके। पुलिस सूत्रों के मुताबिक लापता जवानों में 8 DRG के,6 STF के, 7 CRPF के कोबरा जवान शामिल है। अब तक 2 की बॉडी रिकवर की जा चुकी है। जिसमे 1 कोबरा और 1 DRG के जवान शहीद है।
सुबह से ही रेस्क्यू पार्टी मौके के लिए रवाना कर दी गयी है। अभी भी एम्बुश की आशंका है, लिहाज़ा। फूंक फूंक कर फोर्स आगे बढ़ रही। UAV से नक्सलियों की सर्चिंग भी पैरेलल चल रही है।

इस पूरे घटनाक्रम के बाद रात भर पुलिस मुख्यालय में हड़कम्प मचा रहा। घटना ओर हिज तरह से प्रधानमंत्री के ट्वीट आया, उसके बाद से ही आशंका हो गयी थी कि नक्सल मुठभेड़ बहुत बड़ा है, गृहमंत्री की तरफ से भी घटना को लेकर ट्वीट आ चुका है, लिहाजा इस बात की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता कि हादसा काफी बड़ा और संगीन है।

नक्सल मुठभेड़ः मिलिट्री बटालियन हेड हि़ड़मा की चाल में फंस गई फोर्स, माओवादियों की झूठी खबर पर हिड़मा को घेरने 2000 जवान जंगल में घुसे और एंबुश में घिर गए 

बता दें कि हिड़मा की मौजूदगी की खबर पर बड़ी पुलिस पार्टी आपरेशन के लिए निकली थी, जहां जुनागुड़ा और एक्कल गुडुम के बीच नक्सलियों की मिलट्री बटालियन से जवानों की भीषण मुठभेड़ हुई। करीब 2 घंटे से ज्यादा चले मुठभेड़ में कई जवान शहीद हो गए, जबकि कई गंभीर रूप से जख्मी हो गए। हालांकि अभी तक 7 शहीद की पुष्टि हो चूकी है, लेकिन शहीदों की संख्या अभी और बढ़ सकती है।

मुठभेड़ के बाद अब तक 30 घायल जवानों को अस्पताल पहुंचाया जा चुका है, जिनमे 7 का इलाज रायपुर और 23 का इलाज बीजापुर में चल रहा है। सभी की स्थिति खतरे से बाहर।

जानकारी के मुताबिक अब तक दो शहीद जवानों के शव रिकवर कर लिए गए हैं। वहीं 21 जवान अभी भी लापता है। घटना स्थल के लिए भेजी गई बैकअप पार्टी अब से कुछ देर में घटनास्थल पर पहुंचेगी। बस्तर आईजी सुंदरराज ने जानकारी देते हुए बताया कि घटनास्थल के आसपास नक्सलियों के बटालियन की टीम के मौजूद होने का अभी भी अंदेशा है। लिहाज़ा बैकअप पार्टी सावधानी से आगे बढ़ रही है।

Spread the love