कोरोना पॉजिटिव मरीज के परिवार के 13 लोग रशियन हॉस्टल में क्वारंटाईन, शहर की सीमाएं सील, कलेक्टर ने आवश्यक सेवाओं पर भी लगाई पाबंदी

कटघोरा को कोरोना का हॉट-स्पॉट बनने से रोकने कलेक्टर की अध्यक्षता में सुबह साढ़े चार बजे तक चली प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों की बैठक

विजय सिंह
कोरबा, 9 अप्रैल 2020। कोरबा जिले के कटघोरा में कल रात दूसरा कोरोना पाजिटिव मरीज मिलने के बाद अफसरों की पेशानी पर चिंता की लकीरें खींच गईं हैं। पुलिस ने कल कटघोरा में फ्लैग मार्च किया, वहीं, कलेक्टर किरण कौशल ने प्रशासन और पुलिस अधिकारियों की कल रात आपात बैठक ली। बताते हैं, बैठक आज सुबह साढ़े चार बजे तक चली। इसमें तय किया गया कि किस तरह कटघोरा को कोरोना का हॉट-स्पॉट बनने से रोका जाए।
आपको बता दे की एक सप्ताह के भीतर कटघोरा में कोरोना पॉजिटिव का ये दूसरा मामला है। बुधवार की रात जैसे ही रायपुर एम्स से इस बात की पुष्टि की गई, कोरबा जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में देर रात ही जहाँ कोरोना पॉजिटिव 52 वर्षीय शख्स को रात 2 बजे रायपुर एम्स रवाना किया गया, वही परिवार के 13 सदस्यों को रात में ही रशियन होस्टल में बने क्वारंटाईन सेंटर में शिफ्ट कर दिया गया। रात में ही स्वास्थ विभाग की टीम ने कोरोना पॉजिटिव मरीज की पत्नी और 3 बच्चों के सेम्पल लेकर रायपुर एम्स भेज दिया।
कोरबा कलेक्टर किरण कौशल ने देर रात ही पूरे कटघोरा क्षेत्र में कंप्लीट लॉक डाउन का आदेश जारी कर कटघोरा की सारी सीमाएं सील कर दी गई। पूरे कटघोरा क्षेत्र में आवश्यक सेवाओ पर भी पाबंदी लगा दी गई है….मतलब कटघोरा में आज से दवा दुकानों के साथ ही डेयरी और राशन की दुकाने भी पूरी तरह से बंद रहेंगी। क्षेत्र में फल सब्जियों की दुकाने भी नही लग सकेंगी। कलेक्टर किरण कौशल ने एनपीजी न्यूज को बताया कि जब तक बाकी लोगों की रिपोर्ट नही आ जाती और हालात सामान्य नहीं होते तब तक कोई रिस्क नही लिया जा सकता।
कटघोरा में प्रशासन के सामने हालांकि कई चुनौतियां हैं। पिछले दिनों कटघोरा में राजनीतिक पार्टी के एक नेता के पिता के निधन में लॉकडाउन में नियम के विपरीत 200 से अधिक लोग कब्रिस्तान पहुंच गए। इसमें कुछ लोग जांजगीर से भी आए थे। बताया जा रहा है कि उस वक़्त कब्रिस्तान में कटघोरा के जामा मस्जिद में ठहरे कुछ जमाती भी शामिल हुए थे। वहीं, कटघोरा जामा मस्जिद में नमाज पढ़ने वाले 6 लोग पिछले दिनों पाली थाना के चैतमा मस्जिद के इमाम के घर गए हुए थे, वहां 2 दिन रुकने की जानकारी सामने आने के बाद उनसे मिलने वाले चैतमा के 22 परिवार के करीब 100 से अधिक लोगो को होम कोरेंटाइन में रखा गया है। जिला प्रशासन ने भले ही कटघोरा में 16 साल के नाबालिग जमाती के कोरोना पॉजिटीव आने के बाद ऐहतियातन कई बड़े कदम उठाए। लेकिन मस्जिद में आने-जाने वाले लोगो के कारण अभी मुश्किल और बढ़ने की संभावना जताई जा रही है। फिलहाल जिला प्रशासन की मुस्तैदी का ही नतीजा है कि कोरोना पॉजिटिव आये शख्स के परिवार के साथ ही करीब 52 परिवारों को प्रशासन ने पहले से ही होम कोरेंटाइन में रखा हुआ था। ऐसे में एक बार फिर कोरोना पॉजिटिव आये मरीज की जानकारी के बाद जहाँ जिला प्रशासन मुस्तैद है। कलेक्टर ने कटघोरा को कोरोना का हॉट स्पॉट जैसे सिचुएशन को खारिज किया है। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन पूरी तरह चौकस है। कोरोना को फैलने से रोकने के लिए जिला प्रशासन ने एहतियात के तौर पर उपाय किए हैं।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.