सरकारी बैंकों में 1.17 लाख करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के मामले, एसबीआई सबसे बड़ा शिकार….. RTI के जवाब में RBI ने दी जानकारी

नई दिल्ली 14 फरवरी 2020। देश में पब्लिक सेक्टर्स के बैंकों के साथ धोखाधड़ी को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है. ये खुलासा एक आरटीआई के जरिए हुआ है. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने एक आरटीआई के जवाब में बताया है कि पिछले साल अप्रैल से लेकर दिसंबर यानी कुल नौ महीनों के अंदर 18 बैंकों में 1.17 लाख करोड़ रुपए की धोखाधड़ी हुई.

आरटीआई से पता चला है कि इन नौ महीनों के अंदर कुल 8 हजार 926 फ्राड़ के केस सामने आए हैं. इस फ्रॉड  का सबसे बड़ा शिकार देश कीा सबसे बड़ा बैंक ‘स्टेट बैंक ऑफ इंडिया’ हुआ है. आरटीआई एक्टिविस्ट चंद्रशेखर गौर ने मीडिया को बताया कि आरबीआई के अधिकारियों ने एक आरटीआई के जवाब में उन्हें यह जानकारी दी है.

देखें किस बैंक में धोखाधड़ी के कितने मामले

बैंक धोखाधड़ी की रकम मामले
भारतीय स्टेट बैंक (SBI) 30,300.01 करोड़ रुपये 4,769
पंजाब नेशनल बैंक (PNB) 14,928.62 करोड़ रुपये 294
बैंक ऑफ बड़ौदा (BoB) 11,166.19 करोड़ रुपये 250
इलाहाबाद बैंक 6,781.57 करोड़ रुपये 860
बैंक ऑफ इंडिया (BoI) 6,626.12 करोड़ रुपये 161
यूनियन बैंक ऑफ इंडिया (UBI) 5,604.55 करोड़ रुपये 292
इंडियन ओवरसीज बैंक 5,556.64 करोड़ रुपये 151
ओरियंटल बैंक ऑफ कॉमर्स (OBC) 4,899.27 करोड़ रुपये 282

 

आरटीआई के तहत मुहैया कराए गए आंकड़ों के मुताबिक मौजूदा वित्तीय वर्ष के शुरूआती नौ महीनों में देश का शीर्ष वाणिज्यिक बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) धोखाधड़ी का सबसे बड़ा शिकार बना। आलोच्य अवधि में एसबीआई की ओर से 30,300.01 करोड़ रुपये की बैंकिंग धोखाधड़ी के 4,769 मामले सूचित किए गए। यह राशि इस अवधि में सरकारी बैंकों में बैंकिंग धोखाधड़ी के सूचित मामलों की कुल रकम 1,17,463.73 करोड़ रुपये की करीब 26 प्रतिशत है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.