स्मृति ईरानी के लिए चुनाव प्रचार करने वाले बीजेपी कार्यकर्ता की गोली मारकर हत्या…..स्मृति तुरंत अमेठी के लिए हुई रवाना….इलाके में मचा हड़कंप

लखनऊ 26 मई 2019। अमेठी से एक बड़ी खबर आयी है। चुनाव जीतने के 72 घंटे बाद ही स्मृति ईरानी के एक करीबी नेता की अमेठी में गोली मारकर हत्या कर दी गया है। भाजपा नेता का नाम सुरेंद्र सिंह है। सुरेंद्र अमेठी में बरौलिया गांव के पूर्व प्रधान थे और सांसद स्मृति ईरानी के बेहद करीबी बताये जा रहे हैं। सुरेंद्र सिंह को देर रात अज्ञात बदमाशों ने गोली मार दी।  इलाज के लिए उन्हें लखनऊ के ट्रामा सेंटर ले जाया गया, जहां रास्ते में ही उनकी मौत हो गई। गौरतलब है कि बरौलिया गांव को मनोहर पर्रिकर ने गोद लिया था।

इस घटना के बाद इलाके की सियासत गरमा गई है. नवनिर्वाचित सांसद स्मृति ईरानी खुद लखनऊ जा रही हैं, जहां वह मृतक के परिजनों से मुलाकात करेंगी. वहीं, मृतक के परिवार ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर हमले का आरोप लगाया है. पुलिस ने कुछ संदिग्ध हमलावरों को हिरासत में भी लिया है.बताया जा रहा है कि सुरेंद्र सिंह  ने लोकसभा चुनाव में गांव-गांव जाकर स्मृति ईरानी का प्रचार किया था. सुरेंद्र सिंह को अक्सर जनसभा के दौरान भी देखा जाता था. कई मौकों पर स्मृति ईरानी  ने उनके काम की तारीफ भी की थी.

इस घटना के संबंध में अपर पुलिस अधीक्षक दया राम ने रविवार को बताया कि बरौलिया गांव के पूर्व प्रधान सुरेंद्र सिंह (Surendra Singh) को शनिवार रात करीब 11.30 बजे अज्ञात बदमाशों ने गोली मार दी. उन्हें गंभीर हालत में इलाज के लिए लखनऊ भेजा गया, जहां उनकी मौत हो गयी.एसपी के मुताबिक हमने कुछ संदिग्धों को हिरासत में लिया है. जांच जारी है. घटना के पीछे कोई पुरानी रंजिश या राजनीतिक विवाद कारण हो सकते हैं.’

गौरतलब है कि स्मति ईरानी हाल में बीते लोकसभा चुनाव में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को हराकर संसद पहुंची हैं. ईरानी ने अमेठी के हर विधानसभा क्षेत्र में अच्छा खासा प्रचार किया और कांग्रेस के इस अभेद्य किले में सेंध लगाई. अमेठी लोकसभा सीट के तहत पांच विधानसभा सीटें आती हैं. इनमें अमेठी जिले की तिलोई, जगदीशपुर, अमेठी और गौरीगंज सीटें शामिल हैं. जबकि रायबरेली जिले की सलोन विधानसभा सीट भी अमेठी में आती है. 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में पांच सीटों में से चार पर बीजेपी ने जीत दर्ज की थी और महज एक सीट समाजवादी पार्टी (सपा) को मिली थी.

अमेठी सीट पर इससे पहले 16 चुनाव और दो उपचुनाव हुए हैं. इनमें से कांग्रेस ने यहां 16 बार जीत दर्ज की है. 1977 में लोकदल और 1998 में बीजेपी को यहां से जीत मिली थी. यहां से संजय गांधी, राजीव गांधी, सोनिया गांधी के अलावा राहुल गांधी सांसद रहे हैं और अब यह सीट स्मृति की हो गई है.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.