मनोज तिवारी का दीपिका को करारा जवाब…वो आर्मी को गाली देने वालों के साथ खड़ी हो गईं….

मुंबई 8 जनवरी 2020 बॉलीवुड एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण हाल ही में फिल्म ‘छपाक’ के प्रमोशन के लिए दिल्ली पहुंची थीं. यहां दीपिका जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में हुई हिंसा के खिलाफ मंगलवार को हुई पब्लिक मीटिंग में शामिल हुईं. दीपिका द्वारा लेफ्ट विंग को समर्थन किए जाने के बाद से देश का एक तबका एक्ट्रेस की खूब आलोचना कर रहा है.

दीपिका के इस मीटिंग में शामिल होने के बाद से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के कई नेता भी उनकी आलोचना कर रहे हैं. दीपिका के इस रुख पर अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए दिल्ली बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष और सिंगर मनोज तिवारी ने कहा, “दीपिका को जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) नहीं जाना चाहिए था. मैं दीपिका का फैन हूं. अब उनकी फिल्म ना देखने के लिए बायकॉट छपाक चल रहा है, जिससे मैं आहत हूं. दीपिका पादुकोण ऐसे लोगों के साथ जाकर खड़ी हुईं, जो आर्मी को गाली देते हैं और शहीदों का अपमान करते हैं.”

इसके साथ ही मनोज तिवारी ने उन लोगों को भी घेरा जो कि नागरिकता संशोधन कानून (CAA) का विरोध कर रहे हैं. तिवारी ने कहा, “भारत में अवैध तरीके से रह रहे लोगों को CAA का विरोध करने का कोई अधिकार नहीं है. ऐसे विरोधी देश छोड़ने का इंतजाम कर लें. नागरिकता कानून से देश के मुसलमानों को कोई खतरा नहीं है.”

लगातार केंद्र की मोदी सरकार पर हमलावर फिल्ममेकर अनुराग कश्यप को घेरते हुए मनोज तिवारी ने कहा, “अनुराग कश्यप मोदी का विरोध कर रहे हैं. इससे हमें फर्क नहीं पड़ता. सबको विरोध करने का अधिकार है, लेकिन वे नागरिकता कानून का विरोध कर रहे हैं. इससे उनके मानसिक विचारों पर सवाल खड़े होते हैं.”

वहीं दीपिका के जेएनयू छात्रों का समर्थन करने पर बीजेपी सांसद और सिंगर हंस राज हंस ने कहा, दीपिका पादुकोण को टुकड़े-टुकड़े गैंग के साथ नहीं खड़ा होना चाहिए. दीपिका को वहां जाने से पहले सोचना चाहिए था. वहां क्या चल रहा है इस बारे में भी उन्हें सोचना चाहिए था.”

एक तरफ जहां सत्ताधारी पार्टी से जुड़े लोग दीपिका को घेरने में लगे हैं, वहीं दूसरी ओर कांग्रेस एक्ट्रेस के समर्थन में आई है.  जेएनयू छात्रों का समर्थन करने के मामले में दीपिका को सपोर्ट करते हुए कांग्रेस नेता पवन खेड़ा ने राष्ट्रीय स्वंय संघ को भी आड़े हाथों लिया.

पवन खेड़ा ने कहा, “क्या दीपिका पादुकोण को नागपुर के संघ मुख्यालय जाना चाहिए था? जो पार्टी खुद को दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी कहती है, इसका इतना छोटा दिल है.”

Spread the love